Champaran Satyagrah Andolan In Hindi PDF Download

मोहनदास से महात्मा: चंपारण सत्याग्रह और किसान आंदोलन | Champaran Satyagrah Andolan and Farmers Movement – SSC, UPSC, Railway, Defence

गांधीजी के नेतृत्व में बिहार के चम्पारण जिले में सन् 1917 में एक सत्याग्रह हुआ। इसे चम्पारण सत्याग्रह के नाम से जाना जाता है। गांधीजी के नेतृत्व में भारत में किया गया यह पहला सत्याग्रह था।

champaran satyagraha was led by Gandhi in India

राजकुमार शुक्ल

Raj Kumar Shukla was the person who convinced Mr. M.K. Gandhi to visit Champaran for the Champaran Satyagraha.

इस सीधे-सादे लेकिन जिद्दी शख्स ने उन्हें अपने इलाके के किसानों की पीड़ा और अंग्रेजों द्वारा उनके शोषण की दास्तान बताई और उनसे इसे दूर करने का आग्रह किया.

Haryana River Map Along with Name & List PDF Download

गांधी जी की पहली पटना यात्रा और चंपारण आंदोलन

  • चंपारण बिहार के पश्चिमोत्तर इलाके में आता है. इसकी सीमाएं नेपाल से सटती हैं.
  • यहां पर उस समय अंग्रेजों ने व्यवस्था कर रखी थी कि हर बीघे में तीन कट्ठे जमीन पर नील की खेती किसानों को करनी ही होगी. पूरे देश में बंगाल के अलावा यहीं पर नील की खेती होती थी.
  • उस पर उन पर 42 तरह के अजीब-से कर डाले गए थे.
  • राजकुमार शुक्ल इलाके के एक समृद्ध किसान थे. उन्होंने शोषण की इस व्यवस्था का पुरजोर विरोध किया, जिसके एवज में उन्हें कई बार अंग्रेजों के कोड़े और प्रताड़ना का शिकार होना पड़ा
  • उन्हें गांधी जी को जोड़ने का सुझाव मिला और वे उनके पीछे लग गए.
  • गांधी जी माने और 10 अप्रैल को दोनों जन कलकत्ता से पटना पहुंचे
  • पटना के बाद अगले दिन वे दोनों मुजफ्फरपुर पहुंचे.
  • इसके बाद कमिश्नर की अनुमति न मिलने पर भी महात्मा गांधी ने 15 अप्रैल को चंपारण की धरती पर अपना पहला कदम रखा.यहां उन्हें राजकुमार शुक्ल जैसे कई किसानों का भरपूर सहयोग मिला. पीड़ित किसानों के बयानों को कलमबद्ध किया गया.
  • उधर पुलिस भी हरकत में आ गई। पुलिस सुपरिटेंडंट ने गांधीजी को जिला छोड़ने का आदेश दिया। गांधीजी ने आदेश मानने से इंकार कर दिया। अगले दिन गांधीजी को कोर्ट में हाजिर होना था। हजारों किसानों की भीड़ कोर्ट के बाहर जमा थी। गांधीजी के समर्थन में नारे लगाये जा रहे थे। हालात की गंभीरता को देखते हुए मेजिस्ट्रेट ने बिना जमानत के गांधीजी को छोड़ने का आदेश दिया।
  • बिना कांग्रेस का प्रत्यक्ष साथ लिए हुए यह लड़ाई अहिंसक तरीके से लड़ी गई. इसकी वहां के अखबारों में भरपूर चर्चा हुई जिससे आंदोलन को जनता का खूब साथ मिला. इसका परिणाम यह हुआ कि अंग्रेजी सरकार को झुकना पड़ा.

Updated: February 16, 2020 — 10:07 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *